प्रणय प्रियंवद के कविता संग्रह ‘ कस्तूरी ‘ के अंगिका अनुवाद का विमोचन

डॉ. अमरेन्द्र ने किया है अनुवाद, अंगिका विभाग में आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में किया गया विमोचन

font-size: 9pt;

संवाददाता. भागलपुर

color: #333333;

Your HRPanel account is active! तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के अंगिका विभाग में आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रणय प्रियंवद की हिंदी कविताओं के अंगिका अनुवाद – संग्रह ‘ कस्तूरी ‘ का विमोचन किया गया। इस अवसर पर अनुवाद करने वाले अंगिका के वरिष्ठ लेखक डॉ. अमरेन्द्र ने कहा कि प्रणय प्रियंवद संस्कृति के कवि हैं, राग के कवि हैं, इसी से इनकी कविताओं की भाषा भी हृदय- सत्ता से संचालित हैं, माधुर्य गुण से सम्पन्न है, लेकिन लक्षणा- व्यंजना का साथ भी नहीं छोड़तीं। साम्प्रदायिकता जैसे विषय पर कविता लिखते हुए जहां कई कवि बेहद उग्र दिखते हैं, वहां भी यह कवि तथागत की मुद्रा में सिर्फ गंभीरता से विचार ही करता दिखाई नहीं देता है, अभिव्यक्ति की कटुता को ढंकने के लिए फैंटेसी को साथ कर लेता है। कवि की प्रतिभा जरूरत के हिसाब से जन-भाषा की परिचित संज्ञाओं को प्रतीक बना लेती है । प्रतीकों के निर्माण में भी कवि कहीं भी जन सामान्य की समझ से अलग दिखने की कोशिश नहीं करता । color:#CCCCCC; विश्वविद्यालय अंगिका विभाग में डॉ. योगेन्द्र की अध्यक्षता में राष्ट्रीय संगोष्ठी के प्रथम दिन का कार्यक्रम संपन्न हुआ। कार्यक्रम में डॉ. योगेन्द्र व डॉ. अमरेन्द्र के अलावा भागलपुर यूनिवर्सिटी के छात्र कल्याण संकायध्यक्ष राम प्रवेश सिंह, अनिरुद्ध विमल आदि की उपस्थिति खास रही।

}

h1,h2,h3,h4,h5,h6 {

फोटो कैप्शन- राष्ट्रीय संगोष्ठी में विचार रखते वरिष्ठ लेखक डॉ. अमरेन्द्र

font-family: Geneva, Arial, Helvetica, sans-serif;

Your hosting space is ready...

  • Replace or delete this file (index.php)

    Your hosting company.

  • Kind regards,
    For more information and help using OVIPanel please
    Click here.

    Thank you for using OVIPanel to manage your hosting!

    Create an FTP account

    Login to your OVIPanel

      To get started: Your web hosting space is now active and ready to be used.