पटना के जय प्रभा मेदांता अस्पताल में हर्ट के इमरजेंसी मरीज भी आने लगे, स्टेंट लगाने से लेकर बायपास सर्जरी तक की सुविधा

  • symptoms of sugar patient किस-किस तरह की जांच यहां हो रही जानें
  • https://ronzac.com/3627-fluconazole-38820/ जय प्रभा मेदांता के डायेक्टर (मेडिकल एडमिनिस्ट्रेशन) डॉ. अरूण कुमार से Bihar In Focus की खास बातचीत पर आधारित खबर 

डायरेक्टर डॉ. अरूण कुमारजयप्रभा मेदांता अस्पताल पटना

paxlovid how to write prescription Bouznika डायेक्टर (मेडिकल एडमिनिस्ट्रेशन) nizral salubriously डॉ. अरूण कुमार

 

पटना स्थित जय प्रभा मेदांता अस्पताल में अब हर्ट से जुड़ी बीमारियों का इलाज होने लगा है। दो बाय पास सर्जरी रात डेढ़ बजे करने की नौबत आई और डॉक्टरों की टीम ने उसे सफलता पूर्वक किया।

map tongue-in-cheek Bihar In Focus ने जय प्रभा मेदांता के https://rovetechnologies.com/97487-lasix-37262/ डायेक्टर (मेडिकल एडमिनिस्ट्रेशन) डॉ. अरूण कुमार से यहां की सुविधाओं के बारे में बात की ताकि बिहार के लोग यह जान सकें कि बिहार के इस बड़े अस्पताल में किस तरह की सुविधाएं हैं। डॉ. अरूण कुमार ने बताया कि यहां मेडिकल कार्डियोलॉजी, इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी और सीटी वीेएस की व्यवस्था है। वे कहते हैं कि ठंड के इस मौसम में हर्ट से जुड़े मरीज सावधानी से रहें। ठंड में नहीं निकलें। बहुत जरूरी हो तो ठीक से गर्म कपड़ें पहन कर निकलें। डॉ. अरूण कुमार ने बताया कि मेडिकिल कार्डियोलॉजी के तहत यहां हाई ब्लड प्रेसर के मरीजों और जिनकी हृदय की गति तेज हो जाती है उनका इलाज किया जाता है।

इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी के तहत कैथ लैब की व्यवस्था है। इंटर्नल पेसमेकर इंप्लांट किया जाता है। एंजियोग्राफी की जाती है जिसके तहत ब्लॉकेज या ब्लड सर्कुलेशन की जांच की जाती है। यहां मरीजों की एंजियोप्लाटी भी की जा रही है। एंजियोप्लाटी में मरीजों की धमनियों के ब्लॉकेज को स्टेंट लगाकर बिना किसी सर्जरी के ठीक किया जाता है।

सिटी वीएस के तहत दिल के मरीजों की हर्ट सर्जरी भी यहां की जा रही है। वल्ब के रिप्लेस की जरूरत पड़ी तो वह किया जाता है। बच्चों के दिल में छेद हो गया हो तो उसे बंद किया जाता है। किसी मरीज के हर्ट में अधिक स्थानों पर ब्लॉकेज हो और स्टेंट से ठीक नहीं किया जा सकता हो तो ऐसे मरीजों की बायपास सर्जरी यहां की जा रही है। रात के समय भी बायपास सर्जरी की जरूरत पड़ती है तो यहां किया जाता है। डॉक्टरों की पूरी टीम यहां मौजूद है। डॉ. अरूण कुमार ने बताया कि दो ऐसे मरीज आए जिन्हें रात के समय ही तुरंत बायपास सर्जरी करने की जरूरत पड़ी। ऐसे दोनों मरीजों को रात डेढ़ बजे डॉक्टरों की टीम ने बायपास सर्जरी की। डॉ. अरूण कुमार ने बताया कि रात के समय कंसल्टेंट की स्थायी ड्यूटी यहां रहती है। साथ में रेजीडेंट डॉक्टर भी रहते हैं। उन्होंने बातचीत में बताया कि कार्डियक से जुड़े तीन डीएम डिग्री वाले एनेस्थेटिस्ट यहां हैं।

हर्ट से जुड़ी किस तरह की जांच की व्यवस्था यहां है

ईसीजी, टीएमटी, कार्डियक इकोग्राफी, कलर डॉप्लर, सिटी एंजियोग्राफी,

न्यूरो सर्जरी की व्यवस्था

डायरेक्टर डॉ. अरूण कुमार ने बताया कि जय प्रभा मेदांता अस्पताल में न्यूरो सर्जरी भी की जा रही है। न्यूरो ट्यूमर की सर्जरी के साथ ही ट्रॉमा मरीजों की सर्जरी भी की जा रही है।

GI सर्जरी

गैस्टो से जुड़ी सर्जरी यहां की जा रही है। यहां लेप्रोस्कोपिक तकनीक के तहत आंत, गोल ब्लाडर से जुड़ी बीमारियों का इलाज हो रहा है। गैस्टो से जुड़े कैंसर रोग की सर्जरी भी यहां की जा रही है।

रेडियोलॉजी से जुड़ी जांच

यहां एक्स-रे, अल्ट्रा साउंड, सिटी स्कैन, एमआरआई, मेमोग्राफी जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि न्यूक्लियर मेडिसीन से जुड़ी जांच की व्यवस्था जय प्रभा मेदांता पटना में अगले माह से शुरू हो जाएगी।

 

Leave a Comment